किस महान रसायन वैज्ञानिक को गूगल ने डूडल बनाकर दी श्रद्धांजलि।

आज हम ऐसे प्लेटफार्म के बारे में बात करने जा रहे हैं जिसका इस्तेमाल लाइफ में हम ज्यादा करते हैं।


वह है दोस्तों गूगल । गूगल एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां से हम किसी भी चीज के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और आपने अक्सर देखा होगा कि गूगल समय-समय पर अपनी इमेज को बदलता रहता है जिसे हम डूडल कहते हैं। जो हमें याद दिलाता है खास जयंती या किसी विशेष व्यक्ति के जन्मदिन आदि के बारे में। हम आपको बताएंगे कि डूडल की स्थापना कब हुई और किसने बनाया है। तो आइए जानते हैं आज गूगल ने किस महान रसायन वैज्ञानिक को उनके 80 वें जन्मदिन पर डूडल बनाकर दीया सम्मान। क्या है उनका जीवन परिचय और उनका नाम तथा उन्हें कौन से पुरस्कार से नवाजा गया था। हम यह भी बताएंगे रसायन विज्ञान क्या है, तथा इसके कितने प्रकार हैं। इन सभी सवालों के जवाब जानने के लिए हमारे इस लेख में बने रहिये।


                     


 


डॉ. मारियो मोलिना का जीवन परिचय


डॉ. मारियो मोलिना रसायन विज्ञान क्षेत्र के महान शोधकर्ता थे। इनका जन्म अमेरिका की मैक्सिको सिटी में 19 मार्च 1943 को हुआ था। बचपन से ही विज्ञान क्षेत्र में मारियो की रूचि दी। विज्ञान क्षेत्र में इनकी रूचि का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने विज्ञान के एक्सपेरिमेंट करने के लिए अपनी बाथरूम को ही एक प्रयोगशाला बदल दिया था। इनका पूरा नाम मारियो जोस मोलिना हेनरी केज है। इनके पिता जी का नाम Roberto Molina-Pasquel था जो एक वकील थे।

       


 उनकी माता का नाम Leonor Henriquez था। जो एक मैनेजर थी। मारियो मोलिना ने मेक्सिको के नेशनल ऑटोनॉमस यूनिवर्सिटी से केमिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन की पढ़ाई की। इसके पश्चात उन्होंने जर्मनी के फ्रीवर्ग विश्वविद्यालय से एडवांस डिग्री प्राप्त की।


अपनी पढ़ाई पूरी करने के पश्चात डॉ मौलाना कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय बर्कले और इसके बाद मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में post-doctoral रिसर्च के लिए अमेरिका चले गए।

उन्होंने 1970 के दशक में इस पर रिसर्च की थी कि सिंथेटिक रसायन जो होते हैं वे धरती के वायुमंडल को किस प्रकार प्रभावित करते हैं।


 उन्होंने तथा उनके साथियों ने जो रिसर्च की थी उसके परिणाम को नेचर जर्नल में प्रकाशित किया गया था।

जुलाई 1973 में मारियो मोलिना शादी के बंधन में बंद गए और उनकी जीवन साथी Luisa y Tan बनी। इन दोनों की मुलाकात कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय बर्कले मैं हुई थी। उस समय Luisa y Tan Ph.D कर रही थी। इन दोनों का एक बेटा है जिसका नाम Felipe हैं। किसी कारणवश इन दोनों का 2005 में डिवोर्स हो गया। इसके बाद मारियो मोलिना ने 2006 में Guadalupe Alvarez से विवाह कर लिया।


मारियो मोलिना की प्रमुख खोजें और योगदान


उन्होंने कई महत्वपूर्ण खोजें कि जिनमें से उनकी महत्वपूर्ण खोज थी धरती पर पड़ने वाले ग्लोबल वार्मिंग के प्रभावों का पता लगाना। इन खोजों में ओजोन परत में छेद कैसे हुआ यह भी शामिल है। उन्होंने बताया कि इसकी वजह क्लोरोफ्लोरोकार्बन गैस हैं। क्लोरो फ्लोरो गैस का इस्तेमाल एयर कंडीशनर, एरोसॉल स्प्रे और रेफ्रिजरेटर आदि में किया जाता है।


इस शोध की वजह से ही ग्लोबल वार्मिंग के खतरे का पता लगा जिसके कारण मॉन्ट्रियल संधि हुई।

इस अंतरराष्ट्रीय संधि से करीब 100 ओजोन परत को क्षति पहुंचाने वाले रसायन उत्पादन पर सफलतापूर्वक बैन लगाया गया। आइए जानते हैं मॉन्ट्रियल संधि क्या है।


मॉन्ट्रियल संधि क्या है


ओजोन परत को क्षति पहुंचाने वाले क्लोरोफ्लोरोकार्बन रसायन उत्पादन को रोकने के लिए 1987 में एक अंतरराष्ट्रीय संधि की गई जिसे मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल कहा गया। यह एक पहली अंतरराष्ट्रीय संधि थी जिसके कारण ग्लोबल वार्मिंग की दर में कमी आई।

मोलिना उन लोगों में से एक थे जिन्होंने धरती पर क्लोरोफ्लोरोकार्बन के प्रभावों का पता लगाया था।

 इस संधि का श्रेय डॉक्टर मारियो मोलिना को जाता है जिसके लिए उन्हें साल 1995 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।


7 अक्टूबर 2020 को 77 वर्ष की आयु में दिल का दौरा पड़ने के कारण मारियो मोलिना का देहांत हो गया।


मैक्सिकन केमिस्ट डॉक्टर मारियो मोलिना को आज यानी 19 मार्च को उनके 80 वें जन्मदिन पर गूगल ने अपने डूडल के  माध्यम से उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है।  


कौन-कौन से पुरस्कारों से सम्मानित किया 


  • Tyler prize for environmental achievement (1983)

  • Newcomb Cleveland prize(1987)

  • NASA exceptional scientific achievement medal(1989)


  • Nobel prize in chemistry (1995)

  • President medal of freedom (2013)



डूडल क्या है और इसकी शुरुआत कब हुई


आपने अक्सर देखा होगा कि गूगल समय-समय पर अपनी इमेज को बदलता रहता है जिसे हम डूडल कहते हैं। जो हमें किसी खास जयंती या किसी खास व्यक्ति के जन्मदिन के बारे में याद दिलाता है।


इसकी शुरुआत 1998 में हुई थी। जब गूगल के संस्थापक लैरी पेज और सर्जेई ब्रिन बर्निंग मैन फेस्टिवल में जा रहे थे। वे इस बात को लोगों तक पहुंचाना चाह रहे थे कि वह दफ्तर से बाहर है तो उन्होंने इस बात को दर्शाने के लिए गूगल के ऊपर

डूडल को नोटिफिकेशन के तौर पर शुरू किया था।

और आज के दौर में डूडल एक ऐसा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म बन गया है जो हमें किसी महान पर्व या किसी विशेष जयंती आदि से अवगत कराता रहता है।


रसायन विज्ञान क्या है?


रसायन विज्ञान या रसायन शास्त्र यह भी एक विज्ञान के महत्वपूर्ण शाखा है। इसमें पदार्थों के संरचना,गुणों,संगठन और रासायनिक प्रतिक्रियाओं के दौरान परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता है।

रसायन शब्द की संधि है रस+आयन । इसका अर्थ रसों का अध्ययन। इसमें परमाणुओं,अणुओं,क्रिस्टल और रासायनिक प्रतिक्रियाओं के दौरान मुख्य प्रमुख हुई ऊर्जा का भी अध्ययन किया जाता है।

रसायन विज्ञान से जुड़ी अति महत्वपूर्ण बात यह है कि रसायन विज्ञान में पदार्थ और ऊर्जा के बीच के संबंध का भी अध्ययन किया जाता है। रसायन विज्ञान केंद्रीय विज्ञान या आधारभूत विज्ञान है, क्योंकि अभिज्ञान की दूसरी सवा गांव जैसे भौतिक विज्ञान,खगोल विज्ञान,पदार्थ विज्ञान,भू विज्ञान और जीव विज्ञान आदि को आपस में जोड़ता है।

इसमें पदार्थों का संगठन प्रोटॉन और न्यूट्रॉन से होता है।


रसायन विज्ञान के अन्य भाग कौन-कौन से होते हैं


रसायन विज्ञान अति व्यापक विषय है,जो दिन-प्रतिदिन अन्य विषयों से विस्तृत होता जा रहा है। इसमें कई प्रकार के पदार्थों तथा द्रवों का अध्ययन किया जाता है। जो एक दूसरे से अलग अलग होते हैं। इसके अलावा रसायन विज्ञान की कई नई शाखाओं का उदय हुआ है। वैज्ञानिकों ने इस विषय को सरल और सुगम बनाने के लिए कई उप शाखाओं में बांट दिया है तो आइए हम उन शाखाओं के बारे में बताते हैं

  • भौतिक रसायन

  • अकार्बनिक रसायन

  • कार्बनिक रसायन

  • जीव रसायन

  • नाभिकीय रसायन

  • कृषि रसायन

  • पर्यावरणीय रसायन

  • हरित रसायन


भौतिक रसायन

इस विज्ञान में रासायनिक प्रणालियों में घटित होने वाली परी घटनाएं होती हैं उनकी व्याख्या को बहुत ही का उदाहरण नाम द्वारा दर्शाया जाता है। हालांकि 19वीं सदी में इस रसायन को रसायन विज्ञान की शाखा में नहीं माना गया था। बाद में वांट हाफ विल्हेम ओस्टवाल्ड और ऑरिलियस के कार्य से भौतिक रसायन की रूपरेखा का निर्धारण हुआ।

इस रसायन की शाखा में राउल्ट का वाष्प दाब संबंधी समीकरण विलेनो के संबंध में बयान महत्वपूर्ण सिद्ध।


अकार्बनिक रसायन 

 कार्बनिक यौगिकों का अध्ययन रसायन विज्ञान का एक क्षेत्र है जिसे अकार्बनिक रसायन विज्ञान के रूप में मान्यता प्राप्त हैं। यार ऐसा इनका वैवाहिक है जिसके अंदर कार्बन के अतिरिक्त उन पदार्थों का अध्ययन किया जाता है जिसमें कार्बन नहीं होते हैं।

आमतौर पर एक रासायनिक यौगिक है जिसमें कार्बन हाइड्रोजन वांट उपस्थित नहीं होती है यानी एक ऐसा योग जो कार्बनिक योगिक नहीं। धरती पर करीब 100,000 अकार्बनिक योगिक मौजूद हैं।


कार्बनिक रसायन

कार्बनिक रसायन रसायन विज्ञान की प्रमुख शाखा है। ऐसे रसायन में मुख्यता कार्बन नाइट्रोजन के अणुओं वाले रासायनिक यौगिकों की संरचना गुणधर्म अभिक्रिया एवं उनके निर्माण का वैज्ञानिक अध्ययन किया जाता। इसमें कार्बन हाइड्रोजन के साथ-साथ अन्य लोग होते हैं जो नाइट्रोजन,ऑक्सीजन,फास्फोरस,सिलिकॉन,सल्फर हेलोजन आदि। यह अधिकतर तत्वों के साथ ही सहयोग करके अणुओं का निर्माण करते हैं।


जैव रसायन

जैव रसायन में छोटे-छोटे जीवो में बसते रासायनिक गुणों का अध्ययन तथा जंतुओं और वनस्पति में प्राप्त होने वाले रासायनिक द्रव्यों का अध्ययन उनका संगठन तथा गुणों का ज्ञान प्राप्त किया जाता है।


नाभिकीय रसायन

रसायन विज्ञान का एक उपक्षेत्र है इसके अंदर रेडियो सक्रियता नाभिकीय प्रक्रम तथा नाभिकीय  गुण धर्मों का अध्ययन किया जाता है। इसमें एक्टिनाइड और रेडियम रेडियम आदि रेडियो सक्रिय तत्व के रसायन विज्ञान के अलावा नाभिकीय रिएक्टर से संबंधित रसायन विज्ञान का अध्ययन किया जाता है नाव के अपशिष्ट के भंडारण के बाद उसके व्यवहार का अध्ययन विश का मुख्य क्षेत्र है।


कृषि रसायन

यह रसायन विज्ञान की भाषा का है जिसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के चना सपूतों को नमन किया जाता है इन पदार्थों के साथ ही मिट्टी आदि का अध्ययन करके कृषि की उपज बढ़ाने के तरीके की खोज की जाती है।


पर्यावरण रसायन

यार असम सामाजिक दृष्टि से अति महत्वपूर्ण विषय है। इसमें पर्यावरण का जीवन पर प्रभाव प्रदूषण में कमी और प्रबंधन आदि का अध्ययन किया जाता है पर्यावरण प्रदूषण और हवा पानी और मिट्टी के वातावरण पर उनके पर्यावरणीय प्रभाव प्रभाव और साथ ही मानव स्वास्थ्य और प्राकृतिक पर्यावरण पर अपने प्रभाव का अध्ययन पर्यावरण रक्षण के अंतर्गत आता है।


हरित रसायन

अमेरिकी वैज्ञानिक पॉल अनास्टास के मुताबिक हरित रसायन रसायनिक पदार्थ एवं प्रक्रियाओं के उपयोग एवं विकास पर जोर देता है जिसमें जहरीले प्रदूषण कारक पदार्थों का उपयोग एवं उत्पादन में हो या न्यूनतम हो हरित रसायन प्रदूषण को उसके उद्गम स्थल पर ही रोकने या घटाने पर जोर देता है वास्तव में हरित रसायन कोई नया रसायन विज्ञान नहीं बल्कि रसायनों विधियों के दुष्प्रभावों को हटाने की विधि है।


















    

dad man

मेरा नाम बलराम है और मैं हरियाणा में रहता हूं और मेरे बारे में इससे ज्यादा जानने के लिए मेरा About us पेज देखें।

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने